Rajasthan GK short tricks


Monday, June 14, 2021

भारत के प्रमुख भौगोलिक उपनाम

❑ ईश्वर का निवास स्थान ➭ प्रयाग

❑ पांच नदियों की भूमि ➭ पंजाब

❑ सात टापुओं का नगर ➭ मुंबई

❑ बुनकरों का शहर ➭ पानीपत

❑ अंतरिक्ष का शहर ➭ बेंगलुरू

❑ डायमंड हार्बर ➭ कोलकाता

❑ इलेक्ट्रॉनिक नगर ➭ बेंगलुरू

❑ त्योहारों का नगर ➭ मदुरै

❑ स्वर्ण मंदिर का शहर ➭ अमृतसर

❑ महलों का शहर ➭ कोलकाता

❑ नवाबों का शहर ➭ लखनऊ

❑ इस्पात नगरी ➭ जमशेदपुर

❑ पर्वतों की रानी ➭ मसूरी

❑ रैलियों का नगर ➭ नई दिल्ली

❑ भारत का प्रवेश द्वार ➭ मुम्बई

❑ पूर्व का वेनिस ➭ कोच्चि

❑ भारत का पिट्सबर्ग ➭ जमशेदपुर

❑ भारत का मैनचेस्टर ➭ अहमदाबाद

❑ मसालों का बगीचा ➭ केरल

❑ गुलाबी नगर ➭ जयपुर

❑ क्वीन ऑफ डेकन ➭ पुणे

❑ भारत का हॉलीवुड ➭ मुंबई

❑ झीलों का नगर ➭ श्रीनगर

❑ फलोद्यानों का स्वर्ग ➭ सिक्किम

❑ पहाड़ी की मल्लिका ➭ नेतरहाट

❑ भारत का डेट्राइट ➭ पीथमपुर

❑ पूर्व का पेरिस ➭ जयपुर

❑ सॉल्ट सिटी ➭ गुजरात

❑ सोया प्रदेश ➭ मध्य प्रदेश

❑ मलय का देश ➭ कर्नाटक

❑ दक्षिण भारत की गंगा ➭ कावेरी

❑ काली नदी ➭ शारदा

❑ ब्लू माउंटेन ➭ नीलगिरी पहाड़ियां

❑ अंडों की टोकरी (एशिया) ➭ आंध्र प्रदेश

❑ राजस्थान का हृदय ➭ अजमेर

❑ सुरमा नगरी ➭ बरेली

❑ खुशबुओं का शहर ➭ कन्नौज

❑ काशी की बहन ➭ गाजीपुर

❑ लीची नगर ➭ देहरादून

❑ राजस्थान का शिमला ➭ माउंट आबू

❑ कर्नाटक का रत्न ➭ मैसूर

❑ अरब सागर की रानी ➭ कोच्चि

❑ भारत का स्विट्जरलैंड ➭ कश्मीर

❑ पूर्व का स्कॉटलैंड ➭ मेघालय

❑ उत्तर भारत का मैनचेस्टर ➭ कानपुर

❑ मंदिरों और घाटों का नगर ➭ वाराणसी

❑ धान का डलिया ➭ छत्तीसगढ़

❑ भारत का पेरिस ➭ जयपुर

❑ मेघों का घर ➭ मेघालय

❑ बगीचों का शहर ➭ कपूरथला

❑ पृथ्वी का स्वर्ग ➭ श्रीनगर

❑ पहाड़ों की नगरी ➭ डुंगरपुर

❑ भारत का उद्यान ➭ बेंगलुरू

❑ भारत का बोस्टन ➭ अहमदाबाद

❑ गोल्डन सिटी ➭ अमृतसर

❑ सूती वस्त्रों की राजधानी ➭ मुंबई

❑ पवित्र नदी ➭ गंगा

❑ बिहार का शोक ➭ कोसी

❑ वृद्ध गंगा ➭ गोदावरी

❑ पश्चिम बंगाल का शोक ➭ दामोदर

❑ कोट्टायम की दादी ➭ मलयाला

❑ जुड़वा नगर ➭ हैदराबाद/सिकंदराबाद

❑ ताला नगरी ➭ अलीगढ़

❑ राष्ट्रीय राजमार्गों का चौराहा ➭ कानपुर

❑ पेठा नगरी ➭ आगरा

❑ भारत का टॉलीवुड ➭ कोलकाता

❑ वन नगर ➭ देहरादून

❑ सूर्य नगरी ➭ जोधपुर

❑ राजस्थान का गौरव ➭ चित्तौड़गढ़

❑ कोयला नगरी ➭ धनबाद



राज्यपाल सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

==============================


● राज्यपाल का कार्यकाल कितना होता है— 5 वर्ष


● राज्य सरकार को भंग कौन कर सकता है— राज्यपाल की सिफारिश पर राष्ट्रपति


● किसी राज्य की कार्यपालिका की शक्ति किसमें निहित होती है— राज्यपाल में


● राज्यपाल की नियुक्ति कौन करता है— राष्ट्रपति


● किस व्यक्ति को हटाने का प्रावधान संविधान में नहीं है— राज्यपाल को


● राज्यपाल का वेतन-भत्ता किस कोष से आता है— राज्य की संचित निधि द्वारा


● राज्य सरकार का संवैधानिक प्रमुख कौन होता है— राज्यपाल


● राज्यपाल अपना त्यागपत्र किसे देता है— राष्ट्रपति को


● राष्ट्रपति शासन में राज्य का संचालन कौन करता है— राज्यपाल


● कौन व्यक्ति राष्ट्रपति की इच्छानुसार अपने पद पर बना रहता है— राज्यपाल


● राज्यपाल पद हेतु न्यूनतम आयु कितनी होती है— 35 वर्ष


● राज्यपाल विधानसभा में कितने आंग्ल-भारतीयों की नियुक्ति कर सकता है— एक


● भारत की पहली महिला राज्यपाल कौन थी— सरोजनी नायडू


● ‘राज्यपाल सोने के पिंजरे में निवास करने वाली चिड़िया के समान है’ ये शब्द किसके हैं— सरोजनी नायडू


● किसकी अनुमति के बिना राज्य की विधानसभा में कोई धन विधेयक पास नहीं होता है— राज्यपाल


● राज्यपाल द्वारा जारी किया गया अध्यादेश किसके द्वारा मंजूर किया जाता है— विधानमंडल द्वारा


● राज्य सरकार को कौन भंग कर सकता है— राज्यपाल


● राज्यपाल की मुख्य भूमिका क्या है— केंद्र व राज्य के मध्य की कड़ी


● किसी राज्य के राज्यपाल को शपथ ग्रहण कौन कराता है— उस राज्य का मुख्य न्यायाधीश


● किस राज्य में राष्ट्रपति शासन के अलावा राज्यपाल शासन भी लागू किया जा सकता है— जम्मू-कश्मीर


● भारत के किस राज्य में प्रथम महिला राज्यपाल बनीं— उत्तर प्रदेश


● जम्मू-कश्मीर के संविधान के अनुसार राज्य में अधिकतम कितने समय के लिए राज्यपाल शासन लगाया जा सकता है— 6 माह


● जम्मू-कश्मीर का ‘सदर-ए-रियासत’ पद नाम बदलकर कब राज्यपाल कर दिया गया— 1965 में


● राज्य✅ बौद्ध धर्म  

➖➖➖➖➖


❖ बौद्ध धर्म के संस्थापक - गौतम बुद्ध


❖ चतुर्थ बौद्ध संगीति के उपाध्यक्ष - अश्वघोष


❖ महात्मा बुद्ध की जन्म स्थली लुम्बिनी वन किस महाजनपद के अंतर्गत आती थी - कोशल महाजनपद


❖ महात्मा बुद्ध की शौतेली माता का नाम - प्रजापति गौतमी


❖ बुद्ध के प्रथम दो अनुयायी - काल्लिक तथा तपासु


❖ बुद्ध ने कितने वर्ष की अवस्था में गृह त्याग किया - 29 वर्ष की आयु में


❖ महात्मा बुद्ध द्वारा दिया गया अंतिम उपदेश - सभी वस्तुएँ क्षरणशील होती हैं अतः मनुष्य को अपना पथ-प्रदर्शक स्वयं होना चाहिए।


❖ किसे Light of Asia के नाम से जाना जाता है - महात्मा बुद्ध


❖ चतुर्थ बौद्ध संगीति किसके शासनकाल में हुई - कनिष्क (कुषाण वंश) के शासनकाल में


❖ बौद्ध धर्म के त्रिरत्न - बुद्ध, धम्म, संघ


❖ महात्मा बुद्ध की माता का नाम - मायादेवी


❖ बुद्धकाल में वाराणसी क्यों प्रसिद्ध था - हाथी दाँत के लिए


❖ तृतीय बौद्ध संगीति कहाँ, कब तथा किसकी अध्यक्षता में हुई - पाटलिपुत्र में, 251

 ई.पू.में, मोग्गलिपुत्त तिस्स की अध्यक्षता में


❖ गौतम बुद्ध का जन्म कब हुआ - 563 ई.पू.


❖ जिस स्थान पर बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई वह स्थान - बोधगया


❖ चतुर्थ बौद्ध संगीति के आयोजन का उद्देश्य - बौद्ध धर्म का दो समप्रदायों में विभक्त होना – हीनयान तथा महायान।


❖ बुद्धकाल में पत्थर का काम करने वाले कहलाते थे - कोहक


❖ गौतम बुद्ध के पिता का नाम - शुद्धोधन


❖ गौतम बुद्ध के बेटे का नाम - राहुल


❖ बौद्ध साहित्य में प्रयुक्त संथागार शब्द का तात्पर्य - राज्य संचालन के लिये गठित परिषद


❖ गौतम बुद्ध का जन्म स्थान - कपिलवस्तु का लुम्बिनी नामक स्थान में


❖ बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश कहाँ दिया - सारनाथ


❖ महात्मा बुद्ध के गृह त्याग की घटना क्या कहलाती है - महाभिनिष्क्रमण


❖ तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन किसके शासनकाल में हुआ - सम्राट अशोक (मौर्य वंश) के शासनकाल में


❖ महात्मा बुद्ध के बचपन का नाम - सिद्धार्थ के मुख्यमंत्री की नियुक्ति कौन करता है— राज्यपाल



🔰राजस्थान की नदियां पार्ट 2 ✅

➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


 5. जाखम नदी -


उदगम स्थल - छोटी सादड़ी (प्रतापगढ़)


प्रवाह वाले जिले - प्रतापगढ़, उदयपुर, डूंगरपुर


विलुप्त - डूंगरपुर (बेणेश्वर) में माही नदी में मिल जाती हैं।


6. साबरमती नदी -


उदगम स्थल - गोगुंदा की पहाड़ियां (उदयपुर)


यह राजस्थान में एकमात्र उदयपुर जिलेमें लगभग 30 किलोमीटर बहती है!


इसका अधिकांश प्रवाह गुजरात राज्य में है

साबरमती गुजरात के सावरकांठा जिले से गुजरात में प्रवेश करती है।


गुजरात के गांधीनगर और अहमदाबाद साबरमती नदी के किनारे बसे हुए हैं।

साबरमती नदी गुजरात में बहते हुए खंभात की खाड़ी में विलुप्त हो जाती है।


सहायक नदियां - वाकल (उद्गम - गोगुंदा की पहाड़ियां (उदयपुर)), माजम, मेश्वा, हथमती


2. बंगाल की खाड़ी की ओर जाने वाली नदियां -


Trick - बेबच कोका बापा गंग 

बेडच, बनास, चंबल, कोठारी, कालीसिंध, बाणगंगा, पार्वती, गंभीरी, गंभीर


1. चंबल नदी - 


उदगम स्थल - महू जानापाव की पहाड़ियां (MP)


चंबल नदी राजस्थान में चौरासी गढ़ (मंदसौर) MP से चित्तौड़ में प्रवेश करती हैं।


चंबल नदी चित्तौड़गढ़ के बाद क्रमशः कोटा, बूंदी, सवाई माधोपुर, करौली और धौलपुर जिलों में बहने के बाद राजस्थान से बाहर निकल जाती है।


चंबल नदी कोटा, बूंदी की सीमा बनाती है।


चंबल नदी तीन राज्यों MP, RJ, UP में प्रवाहित होती है।


चंबल नदी मध्य प्रदेश के साथ राजस्थान के तीन जिलों धौलपुर, सवाई माधोपुर, करौली के साथ सीमा बनाती है।


चंबल नदी राजस्थान की एकमात्र नदी है जो कि दक्षिण से उत्तर की ओर बहती है।


चंबल नदी उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के मुरादगंज नामक स्थान पर यमुना नदी में विलुप्त हो जाती हैं।


चंबल नदी पर चित्तौड़गढ़ जिले में भैंसरोडगढ़ नामक स्थान पर चूलिया जलप्रपात स्थित है।

यहां बामनी नदी आकर इसमें मिलती है।


उपनाम - चर्मण्वती, कामधेनु, बारहमासी

चंबल नदी के अलावा माही नदी को भी बारहमासी नदी कहा जाता है। 


सहायक नदियां - कालीसिंध, कुराल, मेज, बनास, बामणी, पार्वती


TRICK - काका में बाबा मापा


चंबल नदी की कुल लंबाई - 965 / 966 KM


राजस्थान में चंबल नदी की लंबाई - 135 KM


राजस्थान की सबसे लंबी नदी - बनास


राज्य में सर्वाधिक सतही जल चंबल नदी में उपलब्ध है।


सर्वाधिक जलग्रहण क्षमता वाली नदी - बनास


चंबल नदी पर बनाए गए बांध - 


1. गाँधीसागर - मंदसौर जिला (मध्यप्रदेश)


2. राणा प्रताप सागर - चित्तौड़गढ़


3. जवाहर सागर - कोटा - बूंदी सीमा पर (पिकअप बांध)


4. कोटा बैराज - कोटा (सिंचाई के लिए)


2. बनास नदी -

उदगम स्थल - राजस्थान में कुंभलगढ़ के निकट खमनोर की पहाड़ियां

इस नदी को वर्णाशा नदी के नाम से भी जाना जाता है।


बनास नदी की कुल लंबाई - 480 KM


बनास नदी मेवाड़ क्षेत्र की महत्वपूर्ण नदी है।


बनास नदी के प्रवाह वाले जिले 

- राजसमंद, चित्तौड़, अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक, सवाई माधोपुर


बनास सवाई माधोपुर जिले में रामेश्वर के निकट पादरला गांव के निकट चंबल में मिल जाती है।


बनास नदी पर टोंक जिले में बीसलपुर बांध बना हुआ है।


बीसलपुर बांध को अजमेर के चौहान शासक बीसलदेव / विग्रहराज चतुर्थ ने बनवाया था।

बनास नदी पर टोंक तथा सवाई माधोपुर की सीमा पर ईसरदा बांध बनाया गया है।


ईसरदा बांध को काफर डैम कहा जाता है।


ईसरदा बांध से जयपुर शहर के लिए जलापूर्ति होगी।


बनास की सहायक नदियां - बेड़च, मेनाल कोठारी, खारी, मानसी, मोरेल, गंभीरी

 बनास नदी भीलवाड़ा जिले में बींगोद नामक स्थान पर मेनाल और बेड़च के साथ मिलकर त्रिवेणी बनाती है।


3. बेड़च नदी -


उदगम स्थल - गोगुंदा की पहाड़ियां, उदयपुर

बेड़च नदी उदयपुर, चित्तौड़गढ़ और भीलवाड़ा जिले में बहते हुए बींगोद के पास बनास में मिल जाती हैं

बेड़च को उद्गम स्थल से उदयसागर झील तक आयड कहा जाता है।


4. कोठारी नदी -

उदगम स्थल - दिवेर (राजसमंद)


कोठारी नदी राजसमंद और भीलवाड़ा जिले में बहते हुए नंदराय नामक स्थान पर बनास नदी में मिल जाती है।

भीलवाड़ा जिले में कोठारी नदी पर मेजा बांध बना हुआ है।



❇️ पचवर्षीय योजनाओं में प्राथमिकता के प्रमुख क्षेत्र 


▪️ 1 पंचवर्षीय योजना (1951-56) - कृषि की प्राथमिकता।

▪️ 2 पंचवर्षीय योजना (1956-61) - उद्योग क्षेत्र की प्राथमिकता।

▪️ 3 पंचवर्षीय योजना (1961-66) - कृषि और उद्योग।

▪️ 4 पंचवर्षीय योजना (1969-74) - न्याय के साथ गरीबी के विकास को हटाया।

▪️ 5 वीं पंचवर्षीय योजना (1974-79) - गरीबी और आत्म निर्भरता को हटाया।

▪️ 6 पंचवर्षीय योजना (1980-85) - पाँचवीं योजना के रूप में ही जोर दिया।

▪️ 7 वीं पंचवर्षीय योजना (1985-90) - फूड प्रोडक्शन, रोजगार, उत्पादकता

▪️ 8 वीं पंचवर्षीय योजना (1992-97) - रोजगार सृजन, जनसंख्या का नियंत्रण।

▪️ 9 वीं पंचवर्षीय योजना (1997-02) -7 प्रतिशत की विकास दर.

▪️ 10 वीं पंचवर्षीय योजना (2002-07) - स्व रोजगार और संसाधनों का विकास।

▪️ 11 वीं पंचवर्षीय योजना (2007-12) - व्यापक और तेजी से विकास।

▪️ 12 वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) -स्वास्थ्य, शिक्षा और स्वच्छता (समग्र विकास) का सुधार।🖕🖕



राजपूत संबंध (राजस्थान का इतिहास) 🔰 (पार्ट-1)


🔷 मगल - राजपूत संबंध :- 


▪️ चित्तौड़ विजय के बाद अकबर ने चित्तौड़गढ़ का नाम मुहम्मदाबाद/मुस्तफा बाद रखा। 

▪️ महाराणा उदयसिंह की अपनी रानी धीरबाई भटीयानी के प्रभाव में आकर अपने अयोग्य पुत्र जगमाल को उत्तराधिकार घोषित किया। 

▪️ लकिन समांन्तों ने उदयसिंह की मृत्यु के बाद गोगुन्दा में महाराणा प्रताप का राज्याभिषेक किया। । 

▪️ उदयसिंह की रानी धीरबाई भटीयानी का पुत्र जगमाल व सज्जाबाई का पुत्र शक्तिसिंह अकबर की सेना में सम्मिलित हो गये।

महाराणा प्रताप :-

▪️ महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 के दिन कुम्भलगढ़ किले के बादल महल में हुआ।

▪️ महाराणा प्रताप उदयसिंह की पटरानी जैवन्ता बाई का पुत्र था। 

▪️ जवन्ता बाई पाली के अखैराज सोनगरा की पुत्री थी। 

▪️ महाराणा प्रताप के बचपन के नाम कीका व पाथल थे। 

▪️ महाराणा प्रताप ने अपने नाना अखैराज सोनगरा की सहायता से जगमाल को गद्दी से हटा कर मेवाड़ अपने अधिकार में लिया। 

▪️ परांरभ में महाराणा प्रताप का राजतिलक गोगुन्दा में हुआ। लेकिन विधिवत् राज्याभिषेक कुभलगढ़ में हुआ। 

▪️ महाराणा प्रताप की कमर में शाही तलवार पंडित कृष्णदास ने बांधी। 


🔷 अकबर व महाराणा प्रताप :-


▪️ अकबर ने महाराणा प्रताप को समझाने के लिए 4 शिष्ट मंडल भेजे, और चारों मंडल महाराणा प्रताप को अकबर की अधीनता स्वीकार करवाने में असफल रहें।


💎 अकबर द्वारा भेजे गये शिष्ट मंडल :-


1. जलाल खां -1572 

2. मानसिंह -1573 

3. भगवन्त दास -1573 

4. टोडरमल -1573 


▪️ चारों मंडलो के असफल रहने पर अकबर अजमेर आया तथा अजमेर स्थित अकबर के किले में युद्ध लड़कर महाराणा प्रताप को बन्दी बनाने की योजना बनाई। 

▪️ मवाड़ पर आक्रमण करने के लिए अकबर ने आमेर के मानसिंह कछवाह तथा आसफ खां को सेनापति बनाया।

▪️ 21 जून 1576 के दिन मेवाड़ की सेना व मुगल सेना के बीच हल्दीघाटी का युद्ध हुआ। 

▪️ हल्दीघाटी का युद्ध मैदान राजसमन्द जिले में है। 

▪️ यहीं से बनास नदी उद्गम होता है। 

▪️ हल्दीघाटी युद्ध मैदान को खमनौर की पहाड़ी /गोगुन्दा की पहाड़ी व रक्त तलाई के नाम से भी जाना जाता है। 

▪️ इस युद्ध में महाराणा प्रताप के सेनापति हकीम खां सूर व झाला बीदा थे। 

▪️ इस युद्ध में महाराण प्रताप ने अपने घोड़े चेतक को मानसिंह के हाथी पर चढ़ा दिया और भाले से प्रहार किया।

▪️ परताप द्वारा किये गये प्रहार से बचने के लिए मानसिंह हाथी के ओहदे में छुप गया। लेकिन वार से मानसिंह के हाथी का महावत मारा गया। और उसकी एक टाँग जख्मी हो गई। 

▪️ महाराणा प्रताप को मुगल सेना से घिरे देखकर झाला मान ने महाराणा प्रताप का मुकुट व राजचिन्ह धारण किया। 

▪️ झाला मान को महाराणा प्रताप सझमकर मुगल सेना उस पर टूट पड़ी और महाराणा प्रताप युद्ध भूमि से बाहर निकल गया। 

▪️ महाराणा प्रताप का पिछा करते मुगल सैनिकों को प्रताप के छोटे भाई शक्तिसिंह ने मौत घाट उतार दिया।

▪️ बनास नदी पार करते ही चेतक दम तोड़ दिया, तब शक्तिसिंह ने अपना घोड़ा त्राटक महाराणा प्रताप को दिया जिसे लेकर महाराणा प्रताप पहाड़ी में चले गये। 

▪️ परताप व शक्तिसिंह के इस घटनाक्रम की जानकारी अमर काव्य वंशावली व राज प्रशस्ती से मिलती है।

▪️ हल्दीघाटी का सजीव वर्णन – मुन्तकाफ उल तवारीख में अब्बदुल कादीर बदॉयूनी। 

▪️ बदॉयूनी ने हल्दीघाटी के युद्ध को गोगुन्दा का युद्ध कहा है। 

▪️ अकबर के दरबार में बदॉयूनी अकबर का घोर विरोधी इतिहासकार था।

▪️ अबुल फजल ने हल्दीघाटी के युद्ध को अपने ग्रन्थ आईने अकबरी/अकबरनामा में खमनौर का युद्ध कहा है।

▪️ हल्दीघाटी के युद्ध को कर्नल जैम्स टौड ने मेवाड़ की थर्मोपल्ली कहा है। 

▪️ हल्दीघाटी का युद्ध अनिर्णायक रहा (गोपीनाथ शर्मा के अनुसार) 

▪️ इस युद्ध में असफ खां ने जीहाद का नारा दिया। 

▪️ इस युद्ध में मिहत्तर खां ने मुगल सेना में जोश पैदा करने के लिए अफवाह फैलाई की अकबर आ गया।

▪️ हल्दीघाटी के बाद अकबर मानसिंह से नाराज हो गया तथा मनसबदारी छीन ली व दरबार से 6 माह के लिए निकाल दिया।

▪️ हल्दी घाटी मे महाराणा प्रताप का सहयोग ग्वालियर के शासक रामसिंह, व बेटे शालीवान, झाला मानसिंह, सोनगरा मानसिंह व ताराचन्द ने दिया।